Saturday, 8 October 2011

~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ जय माता दी ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~

माँ की ज्योत से नूर मिलता है,
सबके दिलों को सुरूर मिलता है,
जो भी जाता है माता के द्वार,
उसे कुछ न कुछ ज़रूर मिलता है.

~ ~ सदा बहार ~ ~ 

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...